मध्य प्रदेश मदरसा मिड डे मील योजना | Mid Day Meal Scheme MP 2019

मध्य प्रदेश मदरसा मिड डे मील योजना- मध्यप्रदेश की कमलनाथ सरकार ने सरकारी स्कूलों की तरह मदरसों में भी Mid-Day Meal की सुविधा शुरू करने की घोषणा की है। मुख्यमंत्री कमलनाथ की अध्यक्षता में हई बैठक में “मध्य प्रदेश मदरसा मिड डे मील योजना” को मंजूरी दे दी गई। अब इस योजना के अमल में आने के बाद राज्य मदरसा बोर्ड से अनुमोदित 1,406  मदरसों में से  1,375 मदरसों को मिड डे मील (Mid-Day Meal)योजना के अनुसार लाभ प्रदान किया जायेगा। मध्य प्रदेश मदरसा मिड डे मील योजना के अंतर्गत सरकार का लक्ष्य मदरसों में पढ़ने वाले 34,000 बच्चो को पौष्टिक भोजन प्रदान करना है।

यह भी पढ़े – मध्य प्रदेश मुख्यमंत्री आदिवासी कर्ज माफी योजना

मदरसा मिड डे मील योजना मध्य प्रदेश

मध्य प्रदेश मिड डे मील योजना में  1,375 मदरसों के 34 हजार  छात्रों को दोपहर के समय पौष्टिक भोजन प्रदान किया जायेगा। केंद्र सरकार की मुहीम के तहत पहले ही कई मदरसे (मध्यान भोजन) Mid Day Meal का लाभ ले रहे है। योजना के सफल कार्यान्वयन के लिए शासन द्वारा 10.20 करोड़ रुपये की एकमुश्त राशि आवंटित की गयी है। MP Madrasa Mid Day Meal Scheme के माध्यम से मध्यप्रदेश के 77% छात्र इस योजना का लाभ सकेंगे। इस लेख में हम आपको Madrasa Mid Day Meal Scheme Madhya Pradesh के बारे में पूरी जानकारी उपलब्ध कराएँगे।

 Mid day Meal Scheme

मध्य प्रदेश मदरसा (Mid Day Meal) स्कीम प्रमुख तथ्य

योजना का नाम मध्य प्रदेश मदरसा मिड डे मील
शुरू की गयी मुख्यमंत्री कमलनाथ
लाभार्थी मदरसे के छात्र
उद्देश्य मध्यान्ह भोजन उपलब्ध कराना
शुरू होगी अक्टूबर माह में
बजट 10.20 करोड़ रुपये
योजना का प्रकार राज्य सरकार योजना
आधिकारिक वेबसाइट https://mhrd.gov.in/mid-day-meal

MP Mid Day Meal Scheme उद्देश्य

एमपी मदरसा मिड डे मील योजना का मुख्य उद्देश्य मदरसों में पढ़ने वाले बच्चो को पौष्टिक भोजन उपलब्ध करना है। सरकार का लक्ष्य Mid-Day Meal के माध्यम से छात्रों में कुपोषण के स्तर को कम करना है। इसके साथ ही केबिनेट बैठक में आदिवासियों के शोषण को रोकने के लिए अनुसूचित जनजाति साहूकार अधिनियम 1972 में संशोधन को भी मंजूरी दी गयी है इसके माध्यम से साहूकार गरीब आदिवासियों का कर्ज के मुद्दे पर शोषण नहीं कर पाएंगे।

एमपी कैबिनेट बैठक में लिए गए अन्य कई महत्वपूर्ण निर्णय-

मुख्यमंत्री कमलनाथ द्वारा केबिनेट की बैठक में अनाज, तेल और अन्य खाद्य वस्तुओं में मिलावटखोरो के कजहिलाफ जंग लड़ने के उद्देश्य से एक नयी योजना की शुरुआत पर भी चर्चा की गयी। जिसके लिए एक नारा “शुद्ध के लिए युद्ध” दिया गया। सरकार जल्द ही इस योजना को अमल में लाने पर कार्य कर रही है।

मध्य प्रदेश मदरसा मिड डे मील योजना 2019 के बारे में किसी प्रकार की जानकारी के लिए आप हमसे कमेंट के माध्यम से प्रश्न पूछ सकते है हम आपके प्रश्न का जवाब देने की कोशिश करेंगे।

Updated: August 22, 2019 — 12:55 pm

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *